गजब की कामयाबी : दो भाइयों ने शुरू किया स्पेशल बिजनेस, आज बने 8000 करोड़ रु के मालिक

19
startupstory

Startup Story: किसी बिजनेस को शुरू करने के लिए बहुत ही अधिक पैसों की जरूरत होती है। वैसे बिजनेस शुरू करने का विचार और उसका मॉडल बनाना तो बहुत ही अच्छा लगता हैं। लेकिन उस बिजनेस को धरातल में उतारने में बेहद ही मुश्किल का सामना करना पड़ता है। ऐसे में कोई स्टार्टअप खुद को साबित कर दिखाता है तो इन्वेस्टर्स के लिए उसमें पैसे लगाना बेहद ही सरल हो जाता है।

1200 मिलियन डॉलर से भी अधिक की कंपनी

car dekho dot com

इन ही सभी बातों को ध्यान में रखते हुए अमित जैन ने अपने भाई अनुराग जैन के साथ मिल कर अपना स्टार्टअप कार देखो डॉट कॉम नाम से शुरू किया था। आज हम इस कंपनी की बात करें तो ये कंपनी 1200 मिलियन डॉलर से भी अधिक की कंपनी बन चुकी हैं। इस बिजनेस को शुरू करने के लिए दोनों भाइयों के पास ठीक ठाक पैसे थे। लेकिन उन्होंने अपनी कंपनी को ब्रांड बनाने के लिए और मार्केटिंग करने के लिए इन्वेस्ट जुटाया।

दोनों भाइयों के बारे में

startup story

आईआईटी दिल्ली से दोनो भाई अमित जैन और अनुराग जैन ने स्नातक करा है। जिसके बाद दोनों ने अलग अलग कंपनी में काम शुरू किया। ट्रीलॉजी में अमित ने 7 वर्षो तक काम किया और अनुराग ने लगभग 5 वर्षो तक साबरे होलिडेज में काम किया। पिता की तबियत खराब हो जाने की वजह से दोनों भाई नौकरी को छोड़ कर जयपुर अपने घर आ गए।

वर्ष 2008 में हुई कंपनी की शुरुवात

कई सारे बिजनेस आइडिया पर अमित अपने भाई अनुराग से चर्चा कर रहे थे। वर्ष 2008 के समय अमित और अनुराग दिल्ली ऑटो कार एक्सपो-2008 देखने के लिए गए थे। वही से उनके दिमाग में कार देखो का आइडिया आया। दोनों ने इस आइडिया में काम करने का सोचा उन्होंने एक ऐसा प्लेटफार्म बनाने का फैसला किया। जहां पर कार को खरीदना आसान हो। वर्ष 2008 में इस तरह कार देखो डॉट कॉम की शुरुवात हुई।

हर महीने 3.5 करोड़ उपभोक्ता कार देखने आते है

cars

आप उनकी इस वेबसाइट में एक साथ 4 कार की तुलना कर सकते है साथ ही इस वेबसाइट में कार की तस्वीरें, कार की वीडियो और 360 डिग्री पर अलग अलग कोणों से कार के आंतरिक और बाहरी दृश्य का विस्तृत दृश्य भी प्रदान करती है और आपको ये सब जानकारी केवल कार और वाहन विशेषज्ञ ही मुहैया कराती है। इस कंपनी की शुरुवात जयपुर से हुई थी और आज इस कंपनी के ऑफिस देश के बहुत बड़े बड़े शहरों में है। इस वेबसाइट में हर महीने लगभग 3.5 करोड़ उपभोक्ता कार देखने के लिए भी आते है।

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर करना न भूलें।