Home हिंदी में पढ़ें स्टार्ट अप स्टोरी सिंगापूर से लाखों की नौकरी छोड़ लौटा गांव, शुरू किया बिजनेस; आज...

सिंगापूर से लाखों की नौकरी छोड़ लौटा गांव, शुरू किया बिजनेस; आज है करोड़ो की कंपनी का मालिक

34
kushal

Startup Story: आज हमारे आस-पास बहुत से लोग हैं जो अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी चाहते हैं. विदेश जाकर काम करना कई लोगों का सपना होता है. लेकिन इन युवाओं को हमारे देश में ज्यादा मौके नजर नहीं आते. हमारे देश में ऐसे कई मूल्यवान संसाधन हैं जिनसे हम अच्छी कमाई कर सकते हैं. यह देखकर विदेश में नौकरी करने वाला एक युवक अपने देश वापस आया और एक स्टार्टअप की स्थापना की जो आज उस से करोड़ों रुपये कमा रहा है.

उन्होंने देश में उपलब्ध संसाधनों का वास्तविक उपयोग करके अपने व्यवसाय की नींव रखी है. वह सब कुछ छोड़कर भारत लौट आया, देश के लिए और अपने लिए कुछ करना चाहता था जो इस युवक ने किया जो किसी ने नहीं सोचा था. आज उनका ब्रांड “टी-बॉक्स” विदेशों में चल रहा है, जो 16 करोड़ से अधिक का वार्षिक कारोबार कर रहा है.

कौशल के दिमाग में बचपन से ही व्यावसायिक विचार थे

kaushal1

कौशल के दिमाग में बचपन से ही व्यावसायिक विचार तैर रहे थे, जहां वह कॉमिक्स के बदले अपने दोस्तों के साथ कैंडी और चॉकलेट का आदान-प्रदान करते थे. कौशल का जन्म उत्तर-पूर्वी भारतीय राज्य असम के सिलीगुड़ी में हुआ था. वे बचपन से ही पढ़ाई में होशियार थे. इसलिए परिवार वालों ने उनका हौसला बढ़ाया और उन्होंने सिंगापुर मैनेजमेंट यूनिवर्सिटी से बिजनेस मैनेजमेंट में डिग्री हासिल की. साथ ही वित्तीय सलाहकार के रूप में एक कंपनी में शामिल हुए जहां उनका पैकेज लाखों में था.

लेकिन विदेश में यह आलीशान नौकरी उन्हें पसंद नहीं आई. वह अपने लिए कुछ करने की इच्छा से भारत लौट आया.भारत आने के बाद, वह अपने गाँव में अपने बड़े भाई के चाय बागान की देखभाल करने लगा. बड़ा भाई चाय निर्यात का कारोबार करता था.

2012 में उन्होंने अपना प्रीमियम टी ब्रांड शुरू किया

tea brand business

कौशल ने देखा कि जो व्यवस्था अभी भी अपनाई जा रही है वह बहुत पुरानी है. यहीं से उन्हें आइडिया आया और फिर 2012 में उन्होंने अपना प्रीमियम टी ब्रांड शुरू किया. उन्होंने “TEA-BOX” की स्थापना की. वे बहुत ताजी चाय सीधे उत्पादक से उपभोक्ता तक ले जाते थे.

उनके विचार की सफलता तब सच हुई जब उनके ब्रांड ने विदेशों में भी अच्छा प्रदर्शन करना शुरू किया. इस सफलता के बाद उन्होंने नई तकनीक से जुड़कर ऑनलाइन माध्यम से इसका प्रचार-प्रसार शुरू किया. इससे उनका व्यवसाय 80 देशों तक पहुंच गया, जहां लोगों को बहुत ही कम समय में ताजी चाय तक सीधी पहुंच प्रदान की गई.

उसके लिए उसने चाय के बागानों से सीधे सामान खरीदना शुरू कर दिया, ये सभी सम्पदाएँ असम राज्य के अलग-अलग शहरों में थीं इसलिए उन्हें कोई समस्या नहीं हुई और उनके बड़े भाई का भी निर्यात का व्यवसाय था. तो उन्होंने भी इस काम में मदद की और सीधे चाय बागान मालिकों से सामान खरीदना शुरू कर दिया. फिर तैयार माल को एक बार साफ करने के बाद उसकी ताजगी बनाए रखने के लिए 48 घंटों के भीतर वैक्यूम पैक में सील कर दिया जाता है और ऑर्डर करने वाले व्यक्ति को भेजा जा सकता है.

भारत दुनिया में चाय का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक

tea business

थोड़े समय के भीतर उन्होंने सिलिकॉन वैली के सबसे बड़े समूह एक्सेल समूह को सफलतापूर्वक आकर्षित किया और $ 1 मिलियन (7.5 करोड़ रुपये) हासिल किए. इसके बाद उनके इस विचार को काफी समर्थन मिलने लगा और यहां तक ​​कि बड़े-बड़े व्यवसायियों ने भी उनके व्यवसाय में निवेश करने की इच्छा प्रकट की.

भारत दुनिया में चाय का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है. लेकिन कौशल से पहले चाय को वर्ल्ड क्लास ब्रांड बनाने और पैसा कमाने का स्टार्टअप आइडिया किसी के पास नहीं आया था.

आज कौशल महज 32 साल का युवक है, जिसने अपने लिए अपने आइडिया पर काम करने के लिए विदेश में करोड़ों की पैकेज वाली नौकरी छोड़ना पसंद किया. जिसका परिणाम उन्हें बेहद सुखद भी लगा. उनके “टी-बॉक्स” स्टार्टअप का लगभग 80 देशों के ग्राहकों के साथ सालाना 16 करोड़ से अधिक का कारोबार है.

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर करना न भूलें।

Click here to read this article in English