Brahma Muhurta : जानिए ब्रह्म मुहूर्त में उठने का अर्थ, समय, महत्व और फायदे

27
brahmamuhurtha

Benefits of Brahma Muhurta: ब्रह्म मुहूर्त में उठने वाला व्यक्ति सफल, सुखी और समृद्ध होता है. इसलिए अगर स्वस्थ और सफल रहना है, तो ब्रह्म मुहूर्त में उठें.

हमारे वेदों पुराणों एवं ग्रंथो में ब्रह्म मुहूर्त को बेहद शुभ माना गया है. हमारे ऋषि मुनियों ने इस मुहूर्त का विशेष महत्व बताया है. इस समय सोना शास्त्रों में निषिद्ध माना गया है. यह समय निद्रा त्याग के लिए सर्वोत्तम है. ब्रह्म मुहूर्त में उठने से सौंदर्य, बल, विद्या, बुद्धि और स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है. ब्रह्म मुहूर्त में दिनचर्या शुरू करने से पूरा दिन अच्छा जाता है. इस समय वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा होती है और इस वक्त किया गया कोई भी कार्य सफल होता है. आइए जानते हैं क्‍यों माना जाता है बह्म मुहूर्त को इतना खास और इसका सही समय क्या है?

क्या होता है ब्रह्म मुहूर्त अर्थ

yoga

ब्रह्म मुहूर्त रात्रि के अंतिम पहर को कहते है अर्थात जब रात्रि समाप्त होने वाली होती है और भौर दिन शुरू होने वाला होता है. ब्रह्म का अर्थ होता है परमात्मा और मुहूर्त का मतलब समय यानी परमात्मा का समय.

ब्रह्म मुहूर्त का समय

brahmamutura

आयुर्वेद के अनुसार रात्रि के अंतिम प्रहर के बाद और सूर्योदय से ठीक पहले का जो समय होता है उसे ब्रह्म मुहूर्त कहा जाता है.यानी सुब‍ह के 4 बजे से लेकर 5:30 बजे तक का समय ब्रह्मा मुहूर्त के रूप में जाना जाता है. शास्त्रों के अनुसार नींद का त्याग करने का यह सब से उतम समय होता है.

ब्रह्म मुहूर्त का महत्व

brahma morning

हिंदू धर्म में ब्रह्म मुहूर्त को सबसे अच्छा समय माना जाता है. पौराणिक काल में जो ऋषि मुनि हुआ करते थे वह ध्यान लगाने के लिए इसी समय को सही मानते थे. इस समय की गई ईश्वर की पूजा का फल शीघ्र मिलता है. मंदिरों के पट भी ब्रह्म मुहूर्त में खोल दिए जाते हैं. पुराणों के अनुसार इस समय की निद्रा ब्रह्म मुहूर्त के पुण्यों का नाश करने वाली होती है. इस समय सोना निषिद्ध है.

ब्रह्म मुहूर्त में उठने के फायदे

  • धार्मिक मान्यता के अनुसार इस समय देवता और पितर हमारे घरों में आते हैं, जिससे हमारे घर की उन्नति होती है.
  • ब्रह्म मुहूर्त में पूरे वातावरण में सकारात्‍मक ऊर्जा भरी रहती है और यह ऊर्जा हमारे अंदर की ऊर्जा से मिलती है तो हमारे मन में अच्‍छे विचार आते हैं और उमंग व उत्‍साह का संचार होता है.
  • ब्रह्म मुहूर्त में उठने वाला व्यक्ति आध्यात्मिक और हमेशा खुश रहता है.
  • ब्रह्मा मुहूर्त में किया गया ध्यान का अभ्यास, आत्म विश्लेषण और ब्रह्मा ज्ञान के लिए सबसे अच्छा समय है.
  • ब्रह्मा मुहूर्त उठने से शरीर में शारीरिक ताकत और सहनशक्ति का निर्माण होता है.
  • आयुर्वेद के अनुसार ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सैर करने से संजीवन शक्ति युक्त शुद्ध प्राण वायु का सेवन और स्पर्श हमारे अंदर नई शक्ति का संचार करती है.
  • ब्रह्म मुहूर्त में उठने या जागने वाले मनुष्य को अच्छा स्वास्थ्य, बल ,बुद्धि और विद्या प्राप्त होती है.
  • ब्रह्मा मुहूर्त में उठने से मानसिक तनाव, चिंता, अनिद्रा और निराशा जैसी विभिन्न मानसिक बीमारियां दूर होती हैं.
  • शरीर को स्वस्थ और फिट रखने के लिए यह उपयुक्त और सही समय होता है .
  • ब्रह्मा मुहूर्त में जो भी व्यक्ति उठते हैं, वो जीवन में ज्यादा सफल होते हैं.
  • वैज्ञानिको के अनुसार ब्रह्म मुहूर्त के समय वायुमंडल प्रदूषण रहित होता है. शुद्ध वातावरण में प्राण वायु आक्सीजन गैस का प्रतिशत भी ज्यादा होता है.
  • मान्यता है कि इस समय की गई पूजा और प्रार्थना सीधे भगवान तक पहुंचती हैं, इसलिए ब्रह्मा मुहूर्त भगवान की पूजा के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. www.netkosh.com इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

Click here to read this article in English